होमपेज सिटीजन चार्टर | अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न | कर्मचारी कॉर्नर  |  प्लेसमेंट/नौकरी के अवसर | शिकायत | हमसे संपर्क करें  

जम्मू-कश्मीर सरकार
कौशल विकास निदेशालय

image

श्री मनोज सिन्हा माननीय
उपराज्यपाल
जम्मू-कश्मीर
श्री राजीव राय भटनागर
उपराज्यपाल, जम्मू-कश्मीर के सलाहकार
कौशल विकास विभाग
डॉ असगर हसन समून आईएएस
प्रधान सचिव
कौशल विकास विभाग
सुदर्शन कुमार, केएएस
निदेशक कौशल विकास
जम्मू-कश्मीर

निदेशक का संदेश

कौशल विकास का विकास , औद्योगिक क्षेत्र के सामाजिक-निर्वाह में काफी योगदान देता है , पूरी तरह से उद्योग के पहिए को चालू रखने के लिए आवश्यक बहुआयामी गतिविधियों को करने के लिए प्रशिक्षित जनशक्ति की उपलब्धता पर निर्भर करता है । कौशल विकास विभाग का उद्देश्य उद्योग और समाज की सेवा के लिए इन प्रशिक्षित तकनीकी रूप से योग्य हाथों को उपलब्ध कराना है। इस प्रकार तकनीकी शिक्षा प्रणाली को तेजी से परिवर्तन के अनुकूल बनाने के लिए पर्याप्त लचीला बनाया जाता है । प्रदेश में कौशल विकास विभाग तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी भूमिका निभाता है।

कौशल विकास निदेशालय राज्य और राष्ट्र की नीतियों के अनुरूप राज्य में कौशल विकास का सुनियोजित विकास सुनिश्चित करता है। हम उद्योग, व्यापार और समुदाय को आवश्यकता आधारित, गुणवत्ता वाले तकनीकी और पेशेवर मानव संसाधन प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं ।

कौशल विकास विभाग, जैसा कि आज जाना जाता है, वर्ष 1981 में अस्तित्व में आया, जो पॉलिटेक्निक और औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों (आईटीआई) दोनों के दायरे में है। इसका बकाया औद्योगिक प्रशिक्षण और रोजगार विभाग को है जो १९७९ में आईटीआई के स्थायी निदेशालय में १९८१ तक हट गया । कौशल विकास विभाग बनने से पहले पॉलिटेक्निक संस्थान तब उच्च शिक्षा विभाग के अधीन थे।

विभाग के पास शुरू में 07 आईटीआई और 02 पॉलिटेक्निक थे, जो समय के साथ 60 आईटीआई के {सरकारी क्षेत्र में 54 और निजी क्षेत्र में 06 हो गए हैं} और 32 पॉलिटेक्निक {सरकारी क्षेत्र में 24 और निजी क्षेत्र में 08) 24 सरकारी पॉलिटेक्निक में से 02 पॉलिटेक्निक एक-एक इस्लामिक यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (स्ट्रूस्ट) अवंतीपोरा पुलवामा और बाबा भोला शाह बादशाह विश्वविद्यालय (जीबीएसबीयू) राजौरी के प्रशासनिक नियंत्रण में काम कर रहे हैं।

आईटीआई में अब तक की सेवन क्षमता 06 महीने, 01 वर्ष और 02 वर्ष की अवधि के 72 विभिन्न ट्रेडों में 15763 पर है। पॉलिटेक्निक में एआईसीटीई से मान्यता प्राप्त 03 वर्षीय डिप्लोमा प्रोग्राम 16 विभिन्न पाठ्यक्रमों में 5655 सीटों के सेवन के साथ पेश किए जा रहे हैं।

आईटीआई और पॉलिटेक्निक दोनों क्षेत्रों में हमारे स्थापित संस्थानों में औपचारिक प्रशिक्षण के अलावा विभाग द्वारा मानव संसाधन क्षमता विकास की विभिन्न अन्य योजनाओं को हाथ में लिया गया है । विभाग राज्य में कौशल विकास मिशन के लिए एक नोडल विभाग के रूप में कार्य कर रहा है, जिसमें 05 वर्षों की अवधि में विभिन्न रोजगारपरक तकनीकी कौशल में ७८५९३ युवाओं के प्रशिक्षण का अपना लक्ष्य है, अब तक 2012-13 के दौरान २४६२६ युवाओं ने राज्य के भीतर और बाहर प्रशिक्षण प्राप्त किया । विभाग का चालू वित्त वर्ष 2013-14 के दौरान 44813 का लक्ष्य हासिल करना तय है। विभाग के आईटीआई क्षेत्र में केंद्र पोषित अन्य योजनाओं के अलावा वीटीपी, आईटीआई इन पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मोड (पीपीपी) संचालित हैं।

पॉलिटेक्निक क्षेत्र में 18 नए पॉलिटेक्निक स्थापित किए गए हैं और २०१२ से कार्य कर रहे हैं जिससे कोर और विशेष इंजीनियरिंग और गैर इंजीनियरिंग विषयों में बैठने की क्षमता में वृद्धि हो रही है । 11 पॉलिटेक्निक संस्थान {04 सरकारी और 07 निजी } पॉलिटेक्निक (सीडीटीपी} के माध्यम से सामुदायिक विकास की केंद्र पोषित योजना में भाग ले रहे हैं । सीडीटीपी योजना के माध्यम से ग्रामीण गरीबों की आर्थिक स्थिति के उत्थान के लिए 03/06 महीने का अल्पावधि कौशल उन्मुख प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

इस प्रकार कौशल विकास विभाग ने अत्याधुनिक स्तरों पर तकनीकी दक्षताओं के स्पेक्ट्रम के साथ मानव संसाधन पूल बनाने की कल्पना की है और मजबूत उद्योग संपर्क के माध्यम से पाठ्यक्रम में नियमित संशोधन करके शिक्षा और प्रशिक्षण के गुणवत्ता मानकों में सुधार करते हुए विस्तार और उन्नयन के माध्यम से सभी तक कौशल विकास और प्रशिक्षण तक पहुंच का विस्तार करके अपने लक्ष्यों को प्राप्त कर रहा है ।

पॉलिटेक्निक सेक्टर
 
आईटीआई सेक्टर
 
 
image image
image
image
image
कौशल विकास निदेशालय, जम्मू-कश्मीर सरकार। सभी अधिकार सुरक्षित।